मोहाली गर्ल्स होस्टल में ऐसा क्या गजब हुआ?

द्वारा प्रकाशित किया गया

#मोहाली_गर्ल्स_होस्टल प्रकरण पर #कुछ_प्रश्न_मन_में_आये जिनके #संभावित_उतर_तलाशने_का_प्रयास किया तो मुझे समस्या की जड़ कहीं और ही दिखी!

  प्रश्न है कि यदि किसी ने #दुर्भाग्यवश #छुपकर_कुछ_छात्राओं_के_निर्वस्त्र_वीडियो बना भी लिये और #सोशलमीडिया_में_परोस भी दिये, तो #ऐसा_क्या_गजब_हो_गया कि, वे मरने की अतिरंजित सोच तक जा पहुँची?


#क्या_केवल_इसीलिए_कि उनकी देह #प्राकृतिक_स्थिति_में उन लोगों द्वारा #देखी_जाने_की_संभावना बन गई जिनसे छुपाने वे वस्त्र धारण करती हैं?

(क्योंकि अनजान लोगों के सामने तो मात्र एक देह ही होगी जैसी कि सोशल मीडिया पर और भी हजारों देह दर्शनार्थ उपलब्ध हैं!)  फिर यदि #किसी_परिजन_या_परिचित_द्वारा वो #वीडियो_देखे_भी_जाते   तो, क्या उन लोगों से, इनकी देह के दर्शन उपरांत, #अनुचित_व्यवहार_अपेक्षित_था?


संभावित उत्तर भी मिले..  पता लगा कि साथी छात्रा ने रिकार्डिंग चोरी से की थी! #छुपकर_की_गई_रिकार्डिंग देखने वालों को भी पता लग जाती है  कि छुपकर की गई है… तब इसमें उसको दोष, क्यों और कैसे दिया जा सकता है जिसके साथ वह दुष्टतापूर्ण छल हुआ हो?  #वो_तो_पीड़ित हुईं?


क्या आज भी #समाज_में_ऐसे_लोग_हैं जो #छल_या_बल_से_शिकार_बनाई_गई #पीड़ित_स्त्री_देह_की_धारक को ही दोषी मानें?


यदि ऐसा है तो समाज महर्षि गौतम वाली #अर्वाचीन_संकीर्ण_मानसिकता, जो पीड़िता को ही दंड देने वाली थी, से ऊपर उठने में, आज भी असफल है?


सामाजिक मानसिकता को #यथार्थ_दर्शन_से_भागना_नहीं_चाहिए!


एक और संभावना भी दिखती है कि छात्राओं की वायरल रिकार्डिंग में कुछ छात्राओं की केवल निर्वस्त्रता ही ना हो, बल्कि एकांत में किसी भी एकल वयस्क व्यक्ति से अपेक्षित यौन चेष्टायें भी सम्मिलित हों… जो पोर्न इंडस्ट्री के लिए अधिक उपयोगी साबित हो सकती हैं..! 


तब भी; समाज को #लड़का_लड़की_में_भेद किये बिना समझना चाहिए कि वयस्क व्यक्ति की #प्राकृतिक#आवश्यकतायें, #केरियर_में_मुकाम_हासिल_करने की, #प्रतीक्षा_नहीं_कर_सकतीं और किसी भी #वयस्क_एकल_तथा_स्वस्थ_व्यक्ति_से ऐसी यौन चेष्टायें #सहज_ही_अपेक्षित हैं! 


उनपर #हंगामा_नहीं_किया_जाना_चाहिए!


बहरहाल #जो_हुआ_वह_अति_दुर्भाग्यपूर्ण और #घोर_निंदनीय_है ! ऐसी घटनाओं के सामने आने पर पीड़िता के निकट जनों सहित, सभी को, पीड़िता के हित संरक्षण का यथा सम्भव प्रयास करना चाहिए…

…और हंगामा तो बिल्कुल भी खड़ा नहीं किया जाना चाहिए! 

अच्छा या बुरा जैसा लगा बतायें ... अच्छाई को प्रोत्साहन मिलेगा ... बुराई दूर की जा सकेगी...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s