तंदुरुस्त तन्हाइयाँ

द्वारा प्रकाशित किया गया

तंदुरुस्त तन्हाइयाँ
चलती सड़क पर
सूना सा मेरा  घर
दिलवालों की दौड़
लगी रहती दिन भर —
तनहाई बहुत यहाँ
तनदुरुस्त है मगर —
काश कोई दस्तक हो
कोई आवाज लगाये —
पानी माँगने आये
या पता ही पूछ जाये
कोई प्यास ना बुझाये
रखे – – –
आस ही जगाये!!!

#सत्यार्चन

….. अपेक्षित हैं समालोचना / आलोचना के चन्द शब्द…

4 comments

glimpseandmuchmore को एक उत्तर दें जवाब रद्द करें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s