सत असत का युग…

द्वारा प्रकाशित किया गया

सत असत का युग…
वर्तमान समय #अर्धसत्य आधारित #असतयोग के प्रचार प्रसार और प्रभाव का है … !
यदि आप #सतयोगी हैं … तो सत्य के त्वरित स्वीकार का निरर्थक प्रयास बिलकुल  मत कीजियेगा…
.
#सुकरात  का दोष भी यही था …
अन्वेषित सत्य को त्वरित मान्यता दिलवाने की ज़िद पाल ली थी उनने..
.
मैंने अपना पूरा जीवन;
असत के आवरण में,
मौन जितना मुखर रहकर,
सतदर्शी हो…
सतप्रदर्शक बनकर ही बिताया है अब तक … !
हजारों में कोई एक ही मिल पाता है…
जो दिखाने के बाद जैसे तैसे सतदर्शक हो पाता है… !  सतसमर्थन तो और भी कठिन है.. !
आप सत्य हैं तो लगे रहिये… !
हम सतयुग के द्वार पर है …
भावी  सुकरातों को, विषपान नहीं करना पड़ेगा….
शायद सम्मान भी मिलने लगे…!
– ‘सत्यार्चन’

अच्छा या बुरा जैसा लगा बतायें ... अच्छाई को प्रोत्साहन मिलेगा ... बुराई दूर की जा सकेगी...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s